किसके दबाये दबा है …..

किसके दबाये दबा है जुनुने इश्क ज़माने में

गए जिंदगी से तुम तो आ गए फसाने में

प्यार का अक्स नहीं है ऐशों के शीशमहल में

मिले

 

गा  वह गुजिश्ता यादों के तहखाने में

जाहिद न दिखे न मिले जो दैरो हरम में

जा के तलाश करो उसको किसी मैखाने में

साक़िया खुदा ना मिला काशी और काबे में

 

कभी कभी झलक जाता है वो तेरे पैमाने में

शमा की लौ छुए तो खुद जल कर राख हो

बाकी है अब भी इतनी आग इस परवाने में

मात देने के मजे तो

 

बला के  दिलकश हैं

बड़ा लुत्फ़ आता है उनसे मात खाने में

कभी

Advertisements

अपना घर लुटा हम खुशनसीब हो गए

अपना घर  लुटा हम खुशनसीब हो गए

उनसे  दूर जाकर उनके और करीब हो गए

दोस्त को बना नामावर भेजी प्यार की खबर

यार की सूरत देख वो   भी रकीब हो गए

जो चहक के मिलते थे नजर चुरा गुजरते हैं

मुफ़लिसी में हम नहीं हुए दोस्त क्यों अजीब हो गए

जब से कीलों बिंधा मसीहा का बदन दिखा

दुनियां के ऐशो आराम मानों सलीब हो गए

सब कुछ बाँट बिखेर , हम तो हुए अमीर

जिन्होंने जोड़ना शुरू किया वो गरीब हो गए